Top 10 Moral Stories in Hindi | जो चाहोगे सो पाओगे

आज के लेख मैं आप जानेंगे, Top 10 Moral Stories in Hindi मैं जो बहुत ही रोचक नैतिक कहानी है। और इससे हमें कई नैतिक शिक्षा मिलती है।
Top 10 Moral Stories in Hindi
Top 10 Moral Stories in Hindi


Top 10 Moral Stories in Hindi | जो चाहोगे सो पाओगे

जनकपुर गांव से दूर जंगल के समीप,शांत जगह पर कुटिया थी। वहाँ पर एक साधु रहा करता था। कुटीया के समीप ही एक नदी बहा करती थी। उसी नदी के किनारे, वह साधु रोज नदी के घाट के किनारे बैठ कर चिल्लाया करता था ,”जो चाहोगे सो पाओगे”, जो चाहोगे सो पाओगे।”

गांव के बहुत से लोग उसी राश्ते से होकर गुजरते थे। और उस साधु की बात को सुनते थे।”जो चाहोगे सो पाओगे” पर कोई भी उसकी बात पर ध्यान नहीँ देता था। और सब उसे एक पागल आदमी समझते थे। और नजरअंदाज कर थे।

एक दिन एक युवक वहाँ से गुजरा और उसनेँ उस साधु की आवाज सुनी , “जो चाहोगे सो पाओगे”, जो चाहोगे सो पाओगे।” ,और आवाज सुनते ही वह आदमी उस साधु के पास चला गया।

उसने साधु से पूछा -“महाराज आप बोल रहे थे, कि ‘जो चाहोगे सो पाओगे’ तो क्या आप मुझको वो दे सकते हो जो मैँ चाहता हूँ?”

साधु उसकी बात को सुनकर बोला – “हाँ बेटा तुम जो कुछ भी चाहता है मैँ उसे जरुर दुँगा, बस तुम्हे मेरी बात माननी होगी। लेकिन पहले ये तो बताओ कि तुम्हे आखिर चाहिये क्या?”

युवक बोला-” मेरी एक ही ख्वाहिश है, मैँ हीरों का बहुत बड़ा व्यापारी बनना चाहता हूँ। “

साधू बोला ,” कोई बात नहीँ मैँ तुम्हे एक हीरा और एक मोती देता हूँ, उससे तुम जितने भी हीरे मोती बनाना चाहोगे बना पाओगे !”

और ऐसा कहते हुए साधु ने अपना हाथ आदमी की हथेली पर रखते हुए कहा , ” पुत्र , मैं तुम्हे दुनिया का सबसे अनमोल हीरा दे रहा हूं, लोग इसे ‘समय’ कहते हैं, इसे तेजी से अपनी मुट्ठी में पकड़ लो। और इसे कभी मत गंवाना, तुम इससे जितने चाहो उतने हीरे बना सकते हो “

युवक अभी कुछ सोच ही रहा था, कि साधु उसका दूसरी हथेली , पकड़ते हुए बोला , ” पुत्र , इसे पकड़ो , यह दुनिया का सबसे कीमती मोती है , लोग इसे “धैर्य ” कहते हैं , जब कभी समय देने के बावजूद परिणाम ना मिलें। तो इस कीमती मोती को धारण कर लेना , याद रखना। जिसके पास यह मोती है, वह दुनिया में कुछ भी प्राप्त कर सकता है। “

युवक गम्भीरता से साधु की बातों पर विचार करता है। और निश्चय करता है, कि आज से वह कभी अपना समय बर्वाद नहीं करेगा। और हमेशा धैर्य से काम लेगा । और ऐसा सोचकर वह हीरों के एक बहुत बड़े व्यापारी के यहाँ काम शुरू करता है। और अपने मेहनत और ईमानदारी के बल पर एक दिन खुद भी हीरों का बहुत बड़ा व्यापारी बन जाता है।

Friends, ‘समय’ और ‘धैर्य’ वह दो हीरे-मोती हैं । जिनके बल पर हम बड़े से बड़े लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। अतः ज़रूरी है, कि हम अपने कीमती समय को बर्वाद ना करें। और अपनी मंज़िल तक पहुँचने के लिए धैर्य से काम लें।

निष्कर्ष :-

आशा करता हूँ, आप सभी को यह कहानी बहुत ही अच्छी लगी होंगी। साथ ही ऐसे ही हिंदी कहानियाँ पड़ने के लिए हमारे वेबसाइट Hindistories.World पर जरूर आए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.